मार्च 26, 2010

मातृभूमि

मातृभूमि
अरुण कमल की यह कविता उनके संकलन 'पुतली में संसार' में संकलित है. कवि और कविता के विषय में कुछ कहने से बेहतर है सीधे कविता पढ़ी जाये....

आज इस शाम जब मैं भींजता खड़ा हूँ आसमान और धरती
                                                                       के बीच
तब अचानक मुझे लगता है यही तो तुम हो मेरी माँ मेरी
                                                                    मातृभूमि
धान के पौधे ने तुम्हें इतना ढँक दिया है कि मुझे रास्ता तक
                                                                     नहीं सूझता
और मैं मेले में खोये बच्चे सा दौड़ता हूँ तुम्हारी ओर
जैसे वह समुद्र जो दौड़ता आ रहा है छाती के सारे बटन खोले
                                                                    हहाता
और उठती है शंखध्वनि कंदराओं के अन्धकार को हिलोड़ती
ये बकरियाँ जो पहली बूंद गिरते ही भागीं और छिप गयी पेड़
                                                                    की ओट में
सिन्धु घटी का वह सांढ़ चौड़े पट्टे वाला जो भींगे जा रहा है
                                                                    पूरी सड़क छेके
ये मजदूर जो सोख रहे हैं बारिश मिट्टी के ढेले की तरह
घर के आँगन में वो नवोढ़ा भींगती नाचती
और काले पंखों के नीचे कौवों के सफ़ेद रोएँ  तक भींगते
और इलाएची के छोटे-छोटे दाने इतने प्यार से गुत्थमगुत्था 
ये सब तुम्हीं तो हो
कई दिनों से भूखा प्यासा तुम्हें ही तो ढूंढ़ रहा था चारों तरफ
आज जब भीख में मुट्ठी भर अनाज भी दुर्लभ है
तब चारों तरफ क्यों इतनी भाप फैल रही गर्म रोटी की 
लगता है मेरी माँ आ रही नक्काशीदार रूमाल से  ढँकी
                                                                  तश्तरी में
खुबानियाँ अखरोट मखाने और काजू भरे
लगता है मेरी माँ आ रही है हाथ में गर्म दूध का गिलास लिए 
ये सारे बच्चे तुम्हारी रसोई की चौखट पर कब से खड़े हैं माँ
धरती का रंग हरा होता हिया  फिर सुनहला फिर धूसर
छप्परों से इतना धुंआ उठता है और गिर जाता है
पर वहीँ के वहीँ  हैं घर से निकाले ये बच्चे तुम्हारी देहरी पर 
              सिर टेक सो रहे माँ
 ये बच्चे कालाहाँडी के 
ये आंध्र के किसानों के बच्चे ये पलामू के पट्टन नरौदा पटिया
                                                                    के 
ये यतीम ये अनाथ ये बंधुआ
इनके माथे पर हाथ फेर दो माँ
इनके भींगे केश संवार दो अपने श्यामल हाथों से-
तुम किसकी माँ हो मेरी मातृभूमि ?
मेरे थके  माथे पर हाथ फेरती तुम्हीं तो हो मुझे प्यार से तकती
और मैं भींज रहा हूँ
नाच रही धरती  नाचता आसमान मेरी कील पर नाचता नाचता
मैं खड़ा रहा भींजता बीचोंबीच.

2 टिप्‍पणियां:

देवसूफी राम कु० बंसल ने कहा…

आज जब कि हमें स्वतंत्र कहा जा रहा है, माँ देती है अलोनी रोटी हम बच्चों को अलख सुबह, और कोई अंजान हाथ छ्चीन ले जाता है उसे हमसे. इसलिए नहीं कि वह भूखा है हमारी तरह, बल्कि इसलिए कि हम भूखे रहें और उसकी दासता के विरुद्ध सिर ना उठा सकें. और हम शाश्वत दासों की तरह हाथ फैलाए खड़े हैं भीख में कुछ पाने की आशा में.
क्यों नहीं करते कोई प्रतिकार हम फ्रांस की जनता की तरह, क्रांति के समय उनकी स्थिति हमारी आज की स्थिति से कहीं अधिक अच्छी थी.

बेनामी ने कहा…

namaskar

subodh