मार्च 23, 2010

भगत सिंह


भगत सिंह  भारतीय ह्रदय की सबसे जीवंत स्मृतियों में से हैं. आज उनका बलिदान दिवस है. उनकी शहादत के बाद भारत की लगभग सभी भाषाओँ में उन पर लिखा गया, वह जन-ज्वार का प्रकटीकरण था. यहाँ 'माधुरी' के पन्नों से भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव  की तस्वीर दी जा रही है. ये तस्वीरें माधुरी के अप्रैल अंक में प्रकाशित हुई थीं. २५ मार्च को गणेश शंकर विद्यार्थी ने भी अपने प्राणों की आहुति दे दी थी, उस पृष्ठ पर उनकी भी तस्वीर थी. विद्यार्थी जी की तस्वीर के साथ यह शीर्षक था 'भारत के एक अमूल्य रत्न'. भगत सिंह और उनके साथियों के साथ शीर्षक था 'स्वतंत्रता  के तीन दीवाने'. तस्वीरों के नीचे यह नोट भी जुड़ा था " यदि ये तीनों त्यागी वीर अहिंसा के पुजारी होते तो भारत को बहुत लाभ पहुंचा सकते. क्योंकि अहिंसा और शांति ही हमारा उद्धार कर सकती है. " पत्रिका के संपादक रामसेवक त्रिपाठी थे. पवित्र जन रुचि उनके शब्दों से पूरी तरह शायद ही सहमत थी.
 भगत सिंह के पत्रों में गहरी, कोमल और हरी संवेदना मिलती है. यहाँ उनके दो पत्र प्रस्तुत हैं, पढ़िए और उस चिर युवा की संजीदगी से जुड़िये.


कुलतार सिंह के नाम अंतिम पत्र.
           
                                                                                                                                     सेंट्रल जेल, लाहौर.
                                                                                                                                     ३ मार्च १९३१
अजीज कुलतार,
       आज तुम्हारी आँखों में आंसू देखकर बहुत दुःख हुआ. आह तुम्हारी बातों में बहुत दर्द था, तुम्हारे आंसू मुझसे सहन नहीं होते.
      बरखुरदार, हिम्मत से शिक्षा प्राप्त करना और सेहत का ख्याल रखना. हौसला रखना और क्या कहूँ !
                                उसे यह फिक्र है हरदम नया तर्ज़े-ज़फा क्या है,
                                           हमें यह शौक़ है देखें सितम की इन्तहा क्या है.
                                           दहर से क्यों खफा रहें, चर्ख का क्यों गिला करें,
                                          सारा जहाँ अदू सही, आओ  मुकाबला  करें.
                                          कोई दम का मेहमान हूँ ऐ अहले-महफ़िल
                                          चरागे-सहर हूँ   बुझा       चाहता हूँ.
                                          हवा में रहेगी मेरे ख्याल की बिजली,
                                          ये मुश्ते-खाक है फानी,  रहे रहे न रहे.
अच्छा रुखसत. खुश रहो अहले-वतन, हम तो सफ़र करते हैं. हिम्मत से रहना.
नमस्ते.
                                                                                                                    तुम्हारा भाई भगत सिंह



कुलबीर के नाम पत्र.

                                                                                                                लाहौर सेंट्रल जेल,
                                                                                                                 ३ मार्च १९३१

प्रिय कुलबीर सिंह,
तुमने मेरे लिए बहुत कुछ किया. मुलाक़ात के वक़्त ख़त के जवाब में कुछ लिख देने के लिए कहा.कुछ अल्फाज़ लिख दूँ, बस-देखो, मैंने किसी के लिए कुछ न किया, तुम्हारे लिए भी कुछ नहीं. आजकल बिलकुल मुसीबत में छोड़कर जा रहा हूँ. तुम्हारी जिन्दगी का क्या होगा ? गुज़ारा कैसे करोगे ? यही  सब सोचकर कांप जाता हूँ, मगर भाई हौसला रखना, मुसीबत में भी कभी मत घबराना. इसके सिवा और क्या कह सकता हूँ. अमेरिका जा सकते तो बहुत अच्छा होता, मगर अब तो यह भी नामुमकिन मालूम होता है. आहिस्ता-आहिस्ता मेहनत से पढ़ते जाना. अगर कोई सिख सको तो बेहतर होगा, मगर सब कुछ पिताजी की सलाह से करना. जहाँ तक हो सके, मुहब्बत से सब लोग गुज़ारा करना. इसके सिवाए क्या कहूँ ?
         जानता हूँ कि आज तुम्हारे दिल के अन्दर गम का सुमद्र ठाठें मार रहा है. भाई तुम्हारी बात सोचकर मेरी आँखों में आंसू आ रहे हैं, मगर क्या किया जाये, हौसला करना, मेरे अजीज, मेरे बहुत-बहुत प्यारे भाई, जिन्दगी बड़ी सख्त है और दुनिया बड़ी बे-मुरव्वत. सब लोग बड़े बेरहम हैं. सिर्फ मुहब्बत और हौसले से ही गुज़ारा हो सकेगा. कुलतार की तालीम की फिक्र भी तुम ही करना. बड़ी शर्म आती है और अफ़सोस के सिवाए मैं कर ही क्या सकता हूँ. साथ वाला ख़त हिंदी में लिखा हुआ है. ख़त 'के' की बहन को  दे देना. अच्छा नमस्कार, अजीज भाई अलविदा....रुखसत.
                                                                                                           तुम्हारा खैर-अंदेश
                                                                                                                   भगत सिंह

9 टिप्‍पणियां:

Manik ने कहा…

आपके ब्लॉग पर आकर कुछ तसल्ली हुई.ठीक लिखते हो. सफ़र जारी रखें.पूरी तबीयत के
साथ लिखते रहें.टिप्पणियों का इन्तजार नहीं करें.वे आयेगी तो अच्छा है.नहीं भी
आये तो क्या.हमारा लिखा कभी तो रंग लाएगा. वैसे भी साहित्य अपने मन की खुशी के
लिए भी होता रहा है.
चलता हु.फिर आउंगा.और ब्लोगों का भी सफ़र करके अपनी राय देते रहेंगे तो लोग
आपको भी पढ़ते रहेंगे.
सादर,

माणिक
आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से सीधा जुड़ाव साथ ही कई गैर सरकारी मंचों से
अनौपचारिक जुड़ाव
http://apnimaati.blogspot.com


अपने ब्लॉग / वेबसाइट का मुफ्त में पंजीकरण हेतु यहाँ सफ़र करिएगा.
www.apnimaati.feedcluster.com

देवसूफी राम कु० बंसल ने कहा…

कैसी विडंबना है कि एक पुत्र अपनी मान से ऐसा अटपटा प्रश्न पूच्छ है. साहस से क्यों नहीं कहता 'टू मेरी मान है मेरी मातृभूमि'.. दूषित राजनीति कितना प्रदूषण फैलाती है जनमानस में यह इसका प्रभाव है.

RAJ SINH ने कहा…

हम सब की है भारतमाता
जन गण बदले 'भाग्य विधाता .

बहुत ही सामयिक और जीवंत जानकारी.
आपका स्वागत है.

आशुतोष पार्थेश्वर ने कहा…

@बंसल साहब.
कुछ सवाल परेशां करने वाले होते ही हैं. 'तुम किसकी माँ हो मेरी मातृभूमि' अरुण कमल की कविता 'मातृभूमि' से साभार है. अगली पोस्ट में इस कविता से आपकी भेंट करवाऊंगा.

saurabh ने कहा…

apne itne durlabh patra dikha ke hame ek nayi urja se bhar diya...
ham ye padhker mahsus kar sakte hain ki hame ab bahana nahi banana chahiye ki hamare samne majburiya hai nahi to ham bhi desh ke liye sochte .............
we bhi insan the aur ham bhi hain.....
baki sab gaud hai...isliye mukt hoke bol "jai hind"...bina kisi sankoch aur tark ke.....

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } ने कहा…

कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

कलम के पुजारी अगर सो गये तो

ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

संगीता पुरी ने कहा…

इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

बेनामी ने कहा…

Bhagat singh ko hamara sat sat parnam na kbi esa veer koi tha na koi hoga or na kbi janm lega

narender singh ने कहा…

apne itne durlabh patra dikha ke hame ek nayi urja se bhar diya...
ham ye padhker mahsus kar sakte hain ki hame ab bahana nahi banana chahiye ki hamare samne majburiya hai nahi to ham bhi desh ke liye sochte .............
we bhi insan the aur ham bhi hain.....
baki sab gaud hai...isliye mukt hoke bol "jai hind"...bina kisi sankoch aur tark ke.....